Article

हाथरस रिजर्व पुलिस लाइन में मनाया गणतंत्र दिवस, परेड और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का हुआ आयोजन

 27 Jan 2022

उत्तर प्रदेश के जिले हाथरस में 73वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर पुलिस अधिकारी विनीत जायसवाल के निर्देशन में रिजर्व पुलिस लाइन हाथरस में भव्य परेड का आयोजन किया गया। गणतंत्र दिवस के अवसर पर परेड का मान प्रणाम मुख्य अतिथि जिलाधिकारी हाथरस रमेश रंजन द्वारा ग्रहण किया गया। इस भव्य परेड के समय जनपद के पुलिस, प्रशासन के अधिकारी और कर्मचारी सहित अतिथिगण, आसपास का क्षेत्रीय जनसमूह, पत्रकार बन्धु तथा विधालयों के शिक्षक और विद्यार्थी उपस्थित रहे। परेड का नेतृत्व डा.आनन्द कुमार, क्षेत्राधिकारी लाइन द्वारा किया गया और परेड में कुल 6 समूहों ने भाग लिया, जिसमें सिविल पुलिस, पुलिस लाइन प्लाटून, PAC, महिला पुलिस शामिल रही। इन समूहों के अतिरिक्त मोटरसाईकिल दस्ता, PRV वाहन, वज्र वाहन, रेडियो शाखा, फील्ड यूनिट, श्वान दल, फायर ब्रिगेड की गाडियों ने परेड में भाग लिया। 

 

सर्वप्रथम परेड ग्राउंड पर परेड का आयोजन किया गया, जिसके बाद सुबह 9:25 पर पुलिस अधीक्षक हाथरस विनीत जायसवाल का मंच पर आए और जिन्हें परेड द्वारा सलामी दी गई। इसके बाद परेड ग्राउंड पर मुख्य अतिथि जिलाधिकारी रमेश रंजन पहुंचे, जिनके द्वारा ध्वजारोहण कर राष्ट्रीय ध्वज को सलामी दी गईं इस दौरान मुख्य अतिथि और पुलिस अधीक्षक द्वारा शांति के प्रतीक माने जाने वाले गुब्बारे छोडे गए। परेड कमांडर द्वारा मुख्य अतिथि को परेड निरीक्षण हेतु आमंत्रित किया गया और मुख्य अतिथि महोदय द्वारा निरीक्षण वाहन से पुलिस अधीक्षक महोदय के साथ परेड का निरीक्षण किया गया फिर परेड द्वारा हर्ष फायर कर मार्च पास्ट एवं मुख्य अतिथि महोदय को सलामी दी गई। पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा परेड और उपस्थित अधिकारियों, कर्मचारियों और अन्य लोगों को संविधान में उल्लिखित संकल्प की शपथ ग्रहणकार्यक्रम का आयोजन किया गया। 

 

मुख्य अतिथि जिलाधिकारी हाथरस का संबोधन करते हुए मुख्य अतिथि द्वारा भव्य परेड के लिए परेड कमांडर तथा उनकी समस्त टीम को ढेर सारी बधाई और शुभकामनाएं दीं गई। मुख्य अतिथि महोदय ने बताया कि भारत के लिए गणतंत्र दिवस केवल एक पर्व नहीं बल्कि गौरव और सम्मान का पर्व है। यह दिवस हर भारतीय का अभिमान है, अनगिनत लोगों की कुर्बानी के बाद भारत माँ को 15 अगस्त 1947 को आजादी मिली थी लेकिन उस स्वतंत्रता को सही पहचान 26 जनवरी 1950 को मिली क्योंकि इसी दिन हमारा संविधान लागू हुआ था। इस अवसर पर मुख्य अतिथि और पुलिस अधीक्षक द्वारा देश प्रदेश के शहीदों के आश्रित परिजनों को फूलमाला और शॉल पहनाकर सम्मानित किया गया एवं उसके उपरान्त सराहनीय कार्य करने और विशिष्ट योगदान देने वाले पुलिसकर्मियों को पुरूस्कार वितरित कर सम्मानित किया गया। परेड कमांडरों को भव्य परेड का आयोजन करने हेतु स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया और डॉग स्क्वार्ड द्वारा डॉग ड्रिल का प्रदर्शन किया गया और इस मौक़े पर स्कूली बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया, जिसमें सरस्वती बाल विद्या मंदिर इंटर कॉलेज हाथरस जंक्शन, कन्या गुरुकुल महाविद्यालय सासनी, श्रीमती रामश्री देवी कन्या इण्टर कॉलेज सादाबाद, मातृछाया साधना गुरुकुल हाथरस आदि के बच्चों ने भाग लिया। 

 

सांस्कृतिक कार्यक्रमों के समापन पर पुलिस अधीक्षक द्वारा घोषणा करते हुए जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक द्वारा स्कूली बच्चों को पुरस्कार वितरित किए गए, मातृछाया साधना गुरुकुल के बच्चों के प्रोत्साहन हेतु पुलिस अधीक्षक एवं जिलाधिकारी महोदय द्वारा उन्हें कैश रिवार्ड से सम्मानित किया गया। इस दौरान पुलिस अधीक्षक द्वारा मुख्य अतिथि को स्मृति चिन्ह भेंट किए गए। जिसके बाद अपर पुलिस अधीक्षक हाथरस ने पुलिस अधीक्षक को कार्यक्रम संयोजक स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया।

 

इस मौक़े पर अपर पुलिस अधीक्षक हाथरस प्रकाश कुमार द्वारा परेड में शामिल होने वाले अधिकारी, कर्मचारी, पत्रकार साथी, स्कूलों के बच्चे, स्टाफ तथा सम्मानित लोगों का धन्यवाद दिया गया ।

 

रिपोर्ट :- जय किशोर कुशवाहा

यह भी पढ़े :- उप्र चुनाव- स्कूल प्रबंधकों के समस्याओं की नहीं होगी अनदेखी, परिवहन विभाग रखेगा पूरा ध्यान